aapkikhabar
aapkikhabar
Aapkikhabar

आप की खबर

5 साल विदेश घूमे PM Modi फिर भी नही ला सके निवेश




5 साल विदेश घूमे PM Modi फिर भी नही ला सके निवेश

File pic modi visit



2019-07-08 13:05:14
: आपकी खबर.कॉम

डेस्क -कांगे्रस के वरिष्ठ नेता श्री प्रमोद तिवारी ने कहा है कि ‘‘मोदी सरकार’’ के ‘‘दूसरे कार्यकाल’’ में वित्त मन्त्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत किये गये ‘‘बजट’’ ने ढेर सारी उम्मीदे लिये बैठे देष के आम आदमी, गरीब, नौजवान, किसान और मजदूर को पूरी तरह निराष किया है ।
श्री तिवारी ने कहा है कि कांगे्रस सरकार के कार्यकाल में जिस थ्क्प् नीति का विरोध भारतीय जनतापार्टी ने किया था , आज वित्त मन्त्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने शत प्रतिषत थ्क्प् के लिये दरवाजे खोल दिये हैं, जो ‘‘विदेषी पंूॅजी निवेष’’ पर आधारित है -जबकि पिछले 5 साल पूरी दुनिया घूमने के बावजूद भी प्रधानमंत्री जी ‘‘विदेषी पंूूॅजी निवेष’’ नहीं करा पाये । अतः विदेषी पंूॅजी निवेष अपेक्षानुसार न मिला तो बजट के सारे सपने बिखर जायेंगे । यह एक जोखिम भरी नींव है जिस पर बजट की पूरी इमारत खड़ी है ।
श्री तिवारी ने कहा है कि सबसे बड़ी समस्या खपत, बढ़त और बचत - तीनों मोर्चो पर बजट में कुछ भी नहीं है, आम आदमी की खरीद शक्ति बढ़ाने की कोई भी झलक बजट में नहीं दिखाई देती है । बेरोजगार नौजवानों के रोजगार के लिये कोई कार्य योजना बजट में नहीं है । पिछले 45 सालों में सर्वाधिक बेरोजगारी से जूझ रहे भारत को इससे मुक्ति दिलाने के लिये कोई निदान दूर दराज तक बजट में दिखाई नहीं पड़ता  है । बढ़ती हुई महंगाई को रोकने के लिये कोई प्रयास नहीं किया गया है ।
श्री तिवारी ने कहा है कि कुल मिलाकर आम आदमी, किसान, बेरोजगार नौजवान, गरीब तपके के लोगों, छोटे व्यापारियों के लिये यह बजट पूरी तरह छलावा है, और वहीं दूसरी तरफ अमीरों की ‘‘तिजोरी’’ के लिये यह ‘‘समर्पित बजट’’ है । 
ये बजट ‘‘मुद्रा स्फीति’’ को बढ़ायेगा, जिन मुद््दों पर मोदी जी ने चुनाव लड़ा था उन मुद््दों पर सकारात्मक प्रयास पूरी तरह नदारत है । एक बार फिर आम आदमी, गरीब तपके के लोग, किसान, छोटे व्यापारी, बेरोजगार नौजवान ठगे गये हैं । 
पेट्रोल एवं डीजल पर एक रुपये ‘‘एक्साईज ड््यूटी’’ बढ़ाना मध्यम वर्ग, वेतन भोगी और किसान की परेषानी को जहांॅ बढ़ायेगा, वहीं यह देष की प्रगति के लिये बाधक है ।
कुल मिलाकर एक ओर जहांॅ ये बजट बड़ी तिजोरी वालों के चेहरे पर मुस्कुराहट लायेगा, वहीं आम आदमी, किसान, बेरोजगार नौजवान, छोटे व्यापारियों के चेहरे पर मायूसी, हताषा और निराषा लाने के सिवाय कुछ नहीं है ।




-





Load more...

Load more...